ERROR: The form could not be loaded. Please, re-enable JavaScript in your browser to fully enjoy our services.

Swami Vivekananda Author: Share on Facebook and Twitter | TiKAG

Swami Vivekananda

कभी मत सोचिये कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है.अगर कोई पाप है तो वो यही है; ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं.
Mon, 13 November 2017
188